# #
 
 
 
 

निदेशक संदेश

भारतीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थानों (आई आई एस ई आर) की स्थापना मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एम एच आर डी), भारत सरकार द्वारा एक स्वायत्तशासी संस्थान के रूप में, मौलिक विज्ञान में गुणवत्ता संपन्न शिक्षण तथा शोध को बढ़ावा देने के लिये किया गया। इस प्रयास के अधीन प्रथम दो संस्थान आई आई एस ई आर कोलकाता (आई आई एस ई आर-के) तथा आई आई एस ई आर पुणे की स्थापना 2006 में हुई, तदोपरांत 2007 में आई आई एस ई आर मोहाली एवं आई आई एस ई आर भोपाल तथा 2008 में आई आई एस ई आर थिरुवनंतपूरम, 2015 में आई आई एस ई आर तिरुपति तथा 2016 में आई आई एस ई आर बेरहमपुर की स्थापना हुई। इनका एक प्रमुख लक्ष्य है गुणवत्ता संपन्न शिक्षण तथा कलात्मक शोध के लिये आवश्यक कौतुहल का एकीकरण। आई आई एस ई आर के विकास में शिक्षण एवं शोध दोनों प्रमुख भाग हैं।

आई आई एस ई आर-के ने अपने अस्तित्व के दस साल पूरे किये हैं, एवं शिक्षण, प्रकाशन दोनों की गुणवत्ता एवं मात्रा के माध्यम से विज्ञान में सर्वोत्कृष्टता की स्थापना की है । अनेक स्नातकाधीन छात्र भी अपने पाठ्यक्रम के अंश के रूप में शोध कार्य में लिप्त हैं।

आज आई आई एस ई आर-के के पास उत्साहपूर्ण परिसर, प्रख्यात एवं सशक्त संकाय सदस्य तथा सहारा प्रदान करने कर्मचारी सदस्य हैं। एवं विविध उपाधि प्राप्त करनेवाले छात्र देश सर्वोत्तम छात्रों में से हैं एवं एक प्रशंसनीय संस्कृति की स्थापना की है।

 

आज निदेशक ने संकायों कि बैठक बुलाई है। संस्थान में एक लचीला शैक्षिक कार्यक्रम त

#
 
 
#